देश और राजनीति से धर्म को अलग रखने के हिमायती थे डॉ.अंबेडकर – रामदेव विश्वबंधु


Picsart_24-03-04_04-01-19-666
Picsart_22-05-25_12-04-24-469
Picsart_24-04-04_11-48-44-272
Picsart_23-03-27_18-09-27-716

इस बार 14 अप्रैल , रविवार को डॉ.भीमराव अंबेडकर जयंती है। रविवार को साप्ताहिक अवकाश होने के कारण 13 अप्रैल को ही बाबा साहेब डॉ. भीमराव जयंती के उपलक्ष्य में गिरिडीह कॉलेज, गिरिडीह में ‘डॉ.भीमराव अंबेडकर : चिंतन एवं विचार’ विषय पर एन. एस. एस. इकाई – एक और बी. एड. विभाग के सौजन्य से एक संगोष्ठी आयोजित की गई। संगोष्ठी में मुख्य अतिथि थे अंबेडकर के जीवन और विचारों के गहरे अध्येता श्री रामदेव विश्वबंधु। विश्वबंधु ने अंबेडकर के विचारों के अनेक पहलुओं पर प्रकाश डालते हुए गांधी और नेहरू से उनके आत्मीय संवादों पर विशेष चर्चा की। उन्होंने कहा कि अंबेडकर देश और राजनीति से धर्म को अलग देखने और रखने के हिमायती थे। साथ ही, श्री शंकर पांडेय ने बाबा साहेब की शिक्षा और उनके संघर्षों को रेखांकित किया। इतिहास के प्रोफेसर डॉ.धनेश्वर रजक ने भारतीय समाज और संस्कृति के आधुनिक व्याख्याकार के रूप में अंबेडकर को याद किया। राजनीति विज्ञान के प्रोफेसर बालेंदु शेखर त्रिपाठी ने अंबेडकर को एक सतत अध्ययनशील और पूर्वग्रहमुक्त चिंतक और ऐक्टिविस्ट बताया।

Picsart_24-03-22_12-10-21-076
Picsart_24-03-22_12-11-20-925
Picsart_24-03-22_12-08-24-108
Picsart_24-03-22_12-13-02-284

राजनीति विज्ञान के ही प्रो. राजकुमार वर्मा ने बाबा साहेब को तत्कालीन भारतीय सामाजिक और राजनीतिक परिस्थितियों में समझने की जरूरत पर प्रकाश डाला। बी. एड. के छात्र श्वेता कुमारी और अजय कुमार रजक, राजनीति विज्ञान के केशव कुमार और सूरज कुमार ने भी इस अवसर पर अपने विचार साझा किए। कार्यक्रम की अध्यक्षता कॉलेज के प्राचार्य डॉ. अनुज कुमार तथा संचालन बी. एड. के सहायक प्रोफेसर धर्मेंद्र कुमार वर्मा ने किया। एन. एस. एस. के कार्यक्रम पदाधिकारी एवं हिंदी के प्रोफेसर डॉ.बलभद्र सिंह ने अतिथियों का स्वागत करते हुए बीज वक्तव्य दिया। अकाउंट सेक्शन के श्री शैलेश चंद्र प्रसाद, श्री प्रदीप कुमार, श्री संतोष कुमार सिंह और कार्यालय प्रमुख श्री पंकज कुमार प्रियदर्शी आदि कार्यक्रम में उपस्थित रहे। साथ ही, बी. एड. सहित हिंदी, राजनीति विज्ञान, इतिहास, अर्थशास्त्र, अंग्रेजी, भूगोल, उर्दू, संथाली आदि विषयों के छात्र- छात्राओं से सभागार खचाखच भरा हुआ था।

 

बलभद्र सिंह

-Advertisment-

15 Dec Giridih Views
Stepping Smiles
Picsart_23-02-13_12-54-53-489
Picsart_24-02-06_09-30-12-569
Picsart_22-02-04_22-56-13-543

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page