NEET Paper Leak: हजारीबाग में जांच के बाद रांची पहुंची पटना ईओयू की टीम, झारखंड से कैसे जुड़ा है तार जानिए


Picsart_24-03-04_04-01-19-666
Picsart_22-05-25_12-04-24-469
Picsart_24-04-04_11-48-44-272
Picsart_23-03-27_18-09-27-716

NEET EXam Paper Leak: नीट पेपर लीक मामले की कड़ी झारखंड से भी जुड़ती दिख रही है। हजारीबाग स्थित एग्जाम सेंटर से लीक होने की आशंका पर ईओयू की तीन सदस्यीय टीम हजारीबाग पहुंची। हजारीबाग में इस बार नीट की परीक्षा के लिए पांच सेंटर बनाए गए थे। इनमें लोहसिंघना थाना क्षेत्र स्थित ओएसिस स्कूल नया सेंटर के रूप शामिल हुआ था। अन्य स्कूलों में डीएवी, संत जेवियर्स, रामकृष्ण विवेकानंद और हॉली क्रॉस शामिल थे। डीएवी से इस बार ৪40 विद्यार्थियों ने नीट की परीक्षा दी।

पटना से हजारीबाग पहुंची आर्थिक अपराथ इकाई की टीम ने ओएसिस स्कूल सेंटर के प्राचार्य से फोन कर पूछा कि प्रश्न पत्र का डिजिटल लॉक कैसे खुला। दूसरी तरफ प्राचार्या ने बताया कि पूरे भारत में डिजिटल लॉक नहीं खुलने की शिकायत थी। ऐसे में वरीय अधिकारी से आदेश लेकर डिजिटल लॉक तोड़ा गया। हालांकि इसमें भी पूरी सुरक्षा को ध्यान में रखा गया। दूसरी तरफ रामकृष्ण विवेकानंद की प्रबंध समिति ने बताया कि कोई पूछताछ नहीं की गई है।

Picsart_24-03-22_12-10-21-076
Picsart_24-03-22_12-11-20-925
Picsart_24-03-22_12-08-24-108
Picsart_24-03-22_12-13-02-284

आवश्यक जानकारी लेने के बाद टीम हजारीबाग से सीधे रांची चली गयी। सूत्र के अनुसार ट्रांसपोर्टिंग के दौरान प्रश्न पत्र लीकेज की आशंका है। इथर, हजारीबाग के सदर पुलिस अनुमंडल पदाधिकारी (एसडीपीओ) कुमार शिवाशीष ने बताया कि ईओयू की टीम पहुंची थी। टीम में तीन सदस्य शामिल थे। उन्होंने अनुसंधान के क्रम में तीन चार जगहों पर पूछताछ की। हालांकि इस संबंध में कोई जानकारी शेयर नहीं की गई।

ट्रांसपोर्टरों और कोचिंग संचालकों पर शक..

आर्थिक अपराध इकाई यानी ईओयू की टीम की नजर ट्रांसपोर्टरों पर है। जहां से पेपर चला वहीं से इसके लीक होने की आशंका जतायी जा रही है। इसलिए ईओयू की टीम ने ट्रांसपोर्टरों की भी सूचना खंगाली है। इस नेक्सेस में कोचिंग संचालक भी शामिल हो सकते हैं। अब तक के कबूलनामे में उजागर हुआ ह कि प्रश्न पत्रों की आवाजाही में शामिल एजेंसियों ने ट्रांसपोर्टंग के दौरान पेपर लीक किया।

बिहार से गहरे जुड़े हैं नीट पेपर लीक के तार..

जानकारी के मुताबिक पटना में जो जली हुई प्रश्न पत्र की बुकलेट बरामद की गई है, उसके आधार पर पता चला है कि हजारीबाग के सेंटर से पेपर लीक हुआ था। नीट पेपर लीक के आरोपी सिकंदर यादवेंद्र ने कबूल किया है कि उसने 30 से 32 लाख रुपए में अमित आनंद और नीतीश कुमार से उसने पेपर खरीदा था। फिर उसने समस्तीपुर के अनुराग यादव, दानापुर पटना के आयुष कुमार, गया के शिवनंदन कुमार और रांची के अभिषेक कुमार को वह पेपर 40-40 लाख रुपए में बेचा था। पटना के रामकृष्णा नगर में नीट परीक्षा से एक रात पहले 4 मई को पेपर इन चारों अभियर्थियों को रातभर रटवाया गया था।

नीट रद्द करने के लिए छात्र संगठन ने किया प्रदर्शन..

नीट रद्द करने की मांग करते हुए छात्र संगठन ने शनिवार को गांधी मैदान कारगिल चौक पर घंटों तक प्रदर्शन किया। छात्र संगठन युवा शक्ति की ओर आयोजित प्रदर्शन का नेतृत्व पटना विश्वृविद्यालय छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष मनीष यादव ने किया। प्रदर्शन में भैस और गधा के साथ करगिल चौक पर छात्र नजर आए। सैंकड़ों नीट और नेट के छात्रों ने अपनी डिग्री जलाकर विरोध जताया।

-Advertisment-

15 Dec Giridih Views
Stepping Smiles
Picsart_23-02-13_12-54-53-489
Picsart_24-02-06_09-30-12-569
Picsart_22-02-04_22-56-13-543

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page