अरे ये क्या, अपने ही पति की पत्नी ने कराई 3 शादी, जाने क्या है पूरा मामला…


दुनिया भर में आए दिन हम ऐसे ऐसे कारनामे देखते रहते हैं जिसमें यकीन करना हमारे लिए मुश्किल हो जाता है ऐसा ही एक मामला हम आपके सामने लेकर आए हैं जिसको जानकर आप भी हैरान हो जाएंगे। दरअसल आंध्र प्रदेश के अल्लूरी सीताराम राजू जिले में कुछ ऐसा हुआ है जिससे आप ही नहीं वहां की महिलाएं भी आश्चर्यचकित हो गई है।

दरअसल यह मामला है ही इतना अजीब। पूरी दुनिया में कोई एक महिला अपने पति को किसी और के पास ना भेज सकती है ना उसकी दूसरी शादी कर सकती है लेकिन ऐसा हुआ है। अल्लूरी सीताराम राजू जिले में एक महिला ने अपनी पति की दो शादी कराई और खुशी-खुशी साथ में रह भी रही है। गुलेलु गांव के शख्स सगेनी पांडन्ना ने साल 2000 में पर्वतम्मा नाम की महिला से शादी की. शादी के 7 साल बाद पर्वतम्मा के पति ने अप्पलम्मा से शादी की, क्योंकि उनका कोई बच्चा नहीं था।

 

सगेनी पांडन्ना ने पर्वतम्मा के बाद अप्पलम्मा से शादी की. दोनों का बच्चा भी हुआ. लेकिन इसके बाद उन्हें एक और बच्चा चाहिए था. अब पर्वतम्मा के साथ अप्पलम्मा ने भी अपने पति, यानी सगेनी पांडन्ना की तीसरी शादी का फैसला लिया. पंडन्ना ने अपनी दोनों पत्नियों को बताया कि उसे किल्लमकोटा गांव के बंधावीधी निवासी लाव्या उर्फ लक्ष्मी पसंद है।

Picsart_24-03-22_12-10-21-076
Picsart_24-03-22_12-11-20-925
Picsart_24-03-22_12-08-24-108
Picsart_24-03-22_12-13-02-284

लाव्या के परिजन भी इस शादी के लिए राजी हो गए। फिर पंडन्ना की दोनो पत्नियों ने अपने नाम पर शादी के कार्ड और फ्लेक्स छपवाए, जिसमें लिखा था कि उन्हें अपने पति की शादी में आमंत्रित किया गया था और शादी बड़े पैमाने पर की गई थी। बता दे कि यह तीसरी शादी 25 जून को हुई थी और उनकी शादी तेलुगू राज्यों में एक हॉट टॉपिक बन गई, जिसके बाद पंडन्ना अपनी तीनों पत्नियों के साथ रिश्तेदारों से दूर चले गए।

किल्लमकोटा के ग्रामीणों के अनुसार, पांडन्ना के पास कुछ खेती के लिए जमीन है और वह बिहारी मजदूरी का काम करता है उनकी पत्नियों भी उसके काम में हाथ बटाती है। गावं वालों ने बताया, “पर्वतम्मा और अप्पालम्मा ने हमें बताया कि इसमें गलत क्या है? हम दोनों पंडन्ना के साथ अपनी जिंदगी बिता रहे हैं. हम एक और बच्चा चाहते थे क्योंकि हम उसे जन्म नहीं दे सकते थे, इसलिए हमारे पति ने लव्या से शादी की। 

Advertisement

इस मामले में वकील वेंकटेश्वर राव ने बताया, “हिंदू विवाह अधिनियम 1954 के अनुसार पांडन्ना का विवाह तब तक अवैध नहीं होगा जब तक कि उसकी पहली पत्नी शिकायत न करे. उनकी पहली और दूसरी पत्नी को कोई आपत्ति नहीं है.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page