बंपर भर्तियां: झारखण्ड के इतिहास में पहली बार, एक साथ 26 हजार पदों पर निकली नियुक्ति


Picsart_23-03-27_18-09-27-716

रांची: मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन के निर्देश पर झारखण्ड राज्य कर्मचारी चयन आयोग ने नियुक्ति प्रक्रिया को गति देने की दिशा में तेजी से काम करना शुरू कर दिया है। इसके तहत झारखण्ड के इतिहास में पहली बार एक साथ 26 हजार पदों पर नियुक्ति के लिए विज्ञापन प्रकाशित किया गया है। जिन 26 हजार पदों के लिए विज्ञापन प्रकाशित किया गया है, वे सभी राज्य के विद्यालयों में नियुक्त किए जाने वाले सहायक आचार्य के पद हैं। इसके साथ झारखण्ड राज्य कर्मचारी चयन आयोग ने अभी तक लगभग 35 हजार से अधिक रिक्तियों के लिए विज्ञापन निकाल दिया है।

-Advertisment-

15 Dec Giridih Views
Picsart_23-02-13_12-54-53-489
Picsart_24-02-06_09-30-12-569
Picsart_22-12-10_00-00-01-405
Picsart_22-02-04_22-56-13-543

बेहतर शिक्षा प्रदान करना एवं रिक्तियों को भरना लक्ष्य

सहायक आचार्यों की नियुक्ति होने से विद्यालयों में पठन-पाठन को बल मिलेगा, साथ ही इससे विद्यालयों में शिक्षकों की जो कमी है उसे पूरा कर टीचर-स्टूडेंट अनुपात में भी बढ़ोत्तरी होगी। शिक्षा के क्षेत्र में झारखण्ड आगे बढ़े, यही मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन का संकल्प है। राज्य स्तर पर खुले उत्कृष्ट विद्यालय उसी का प्रमाण हैं। मुख्यमंत्री ने प्रारंभ से विभिन्न विभागों की रिक्तियों को भरने के प्रति गंभीरता दिखाई है और वे इस मामले में हमेशा से संवेदनशील रहें हैं। विभागों द्वारा  नियुक्ति नियमावली में आ रही अड़चनों को दूर कर नियुक्ति प्रक्रिया का मार्ग प्रशस्त किया गया है। यही वजह है कि अबतक 8328 लोगों की नियुक्ति की गई है, इसमें जेपीएससी द्वारा रिकॉर्ड समय में 250 पदों पर नियुक्ति भी शामिल है।

इनके लिए निकाली गई अधिसूचना

राज्य सरकार के निदेश पर झारखण्ड प्रयोगशाला सहायक, स्नातकोत्तर प्रशिक्षित शिक्षक परीक्षा, झारखण्ड सामान्य स्नातक योग्यताधारी संयुक्त परीक्षा, झारखण्ड नगरपालिका सेवा संवर्ग संयुक्त परीक्षा, झारखण्ड दिप्लोमा  स्तर संयुक्त परीक्षा, उत्पाद सिपाही परीक्षा, झारखण्ड औद्योगिक प्रशिक्षण सेवा (आईटीआई प्रशिक्षक), झारखण्ड मैट्रिक स्तर संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा के लिए अधिसूचना निकाली गई है।

Picsart_24-01-03_20-52-59-400


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page